Rabindranath Tagore

Rabindranath Tagore
Rabindra Sangeet

Friday, February 24, 2017

JINDAGI


✍.. *कभी हँसते हुए छोड़ देती है ये जिंदगी*
*कभी रोते हुए छोड़ देती है ये जिंदगी।*
*न पूर्ण विराम सुख में,*
        *न पूर्ण विराम दुःख में,*
*बस जहाँ देखो वहाँ अल्पविराम छोड़ देती है ये जिंदगी।*
*प्यार की डोर सजाये रखो,*
    *दिल को दिल से मिलाये रखो,*
*क्या लेकर जाना है साथ मे इस दुनिया से,*
*मीठे बोल और अच्छे व्यवहार से*
        *रिश्तों को बनाए रखो*....
जाने  किस मोड़ पर साथ  छोड़ दे  ये  जिंदगी। .... 

No comments:

Post a Comment